Dictionaries | References

आज है सो कल नही


जी गोष्ट आज शक्य आहे ती उद्या शक्य असतेच असे नाही. तेव्हां आजची घडी उद्या यावयाची नाही. आजची सर उद्यास नाही. तेव्हां शक्य ते आज आटोपून घ्यावे.

Related Words

आज है सो कल नही   आज उलयलें फाल्या पोल झालें   आज घोवा, फाल्या रांड   सो   इकडे नही, इकडे वही   नाकशिमर्‍या लज्‌ ना, आनि काल उलयिल्लॅं आज ना   काल मेला आणि आज पितर झाला   संहत (सो. सह.)   जावेगा सो पावेगा, सोवेगा सो खोवेगा-गमावेगा   आज करणें ते उद्यावर न टाकणें   आपना घर दूरसे सुझतां है   अकेला चना भाड नही फोड सकता   आज मला, तर उद्या तुला   आपना वकर आपने हात है   जागे सो गाजे, सोवे सो रोवे   कुणबीसरीखा दाता नही, मारे बिगर देता नही   जहां सो, वहां सवास्‍सो   नफा दिसता है, मुद्दल घुसता है   गडमें गड चितोडगड और सब गढैया है, तालमें ताल भोपालताल और सब तलैंया है   पके बडके तले, मरणेवाले है   दिलपर दिल ऐना है   नंगेमे खुदाभी डरता है   है   बछडा-बछडा खुंटेके बळ नाचता है   बर्‍या गेल्यार कल खोडी   सो घाट और एक वसरी कांठ   इकडे नही तिकडे वही   साहेबका घर दूर है, जैसी लंबी खजूर l चढे तो चाहे प्रेम रस, गिरे तो चकना चूर ll   सो शाने एक मत्त   मूमें सो पाताडेमें   सो बाधेलखंडी तो एक बुंदेलखंडी   घी देखा पण बडगा नही देखा   एक डोसी ने सो जोशी   जो नजर न आवे, सो भुलजावे   पानीमें फत्तर नही सडता   जो हंडीमें होगा, सो रकाबीमें आवेगा   ठकबाजीचें घर नही बसता   सो हाट एक ओटेका काठ   घरमें नही बास, और नाम दुर्गादास   जी कहीं लागत नही, जब दिल कही लग जाय   जबान तले जबान है   दियाही आडे आता है   एक एक मुस्किलके, हजार हजार आसान रखे है   जहांके मुरदे वहांही गाडते है   उंट बडबडातेही लादते है   नानक (कहे) नन्हे होईजे जैसी दूब, और घांस जर जात है दूब खूब की खूब   आग पानीको हाडवैर है   मारमारके जाय, फताहदाद इलाही है   मुफलस-मुफलससे सवाल हराम है   हजार आफत है, एक दिल लगानेसें   गद्धेभी जवानीमें, भले मालूम देते है   नाकशिमर्‍या लज्‌ ना, आनि काल उलयिल्लॅं आज ना   बियाह-बीयाह न कीया, बराततो देखी है   मारमारके जाय, फताहदाद इलाही है   सोना-सोतेको सोता, कब जागता है   
: Folder : Page : Word/Phrase : Person

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.
TOP