Dictionaries | References

कौषीतकि



कौषीतकि n.  एक ऋषि । इसके नाम पर कौषीतकि ब्राह्मण, आरण्यक, उपनिषद, सांख्यायन, श्रौत तथा गृह्यसूत्र आदि ग्रंथ है । उसमें इसके नाम से संबंधित कुछ मत आये हैं । कौषीतकि या कौषीतकेय यह कहोड का पैंतृक नाम है [श.ब्रा.२.४.३.१];[ छां. उ.३.५.१]। लुशाकपि ने इसे तथा इसके शिष्यों को शाप दिया था [पं.ब्रा.१७.४.७.३]। इन शिष्यों में दो अध्यापक थे । पहला कहोड एवं दूसरा सर्वजित्‍ [सां. ब्रा.१४.२४.७१]। इसे ही सांख्यायन कहते है । इंद्रप्रतदनसंवाद में प्राणतत्व को संसार का मूलाधार कहा है [कौ. उ. २.१]। इसका शिष्य सर्वजित्‍ [कौ. उ. २.७]। इसने पुत्र को उपदेश दिया [छां. उ.१.५.२]; कुषीतक सामश्रवस देखिये। यह प्राण को ब्रह्म मानता था ।
कौषीतकि  m. m. ([Pāṇ. 4-1, 124]; [Kāś.]) patr.fr.कुषी॑तक, [ŚBr. ii]; [TāṇḍyaBr. xvii] (pl.), [ŚāṅkhŚr.]; [ChUp.]; [Pravar.]

Related Words

: Folder : Page : Word/Phrase : Person

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.
TOP