Dictionaries | References

गडमें गड चितोडगड और सब गढैया है, तालमें ताल भोपालताल और सब तलैंया है


सर्व गडांमध्ये गड या नांवाला खरोखर पात्र असा फक्त चितोडगड आहे, बाकीचे गढ म्‍हणजे केवळ गढ्या आहेत. तसेच सर्व तलावांमध्ये तलाव या नांवास योग्‍य असा तलाव फक्त भोपाळ येथील आहे. बाकीची सर्व तळी, डबकी आहेत. चितोडगडाची व भोपाळच्या तलावाची भव्यता या म्‍हणतीत व्यक्त केली आहे.

Related Words

और   गडमें गड चितोडगड और सब गढैया है, तालमें ताल भोपालताल और सब तलैंया है   त्रिपुट ताल   सब   आपना घर दूरसे सुझतां है   आपना वकर आपने हात है   बाजरा-री-बाजरा (बाजरी) कहे मैं हूँ टीकला, और उखळ और मुसलके बीच लढूं एकला   नफा दिसता है, मुद्दल घुसता है   खानेके दांत और, देखनेके और   दोनो हातो पगडी संभालाने पडी है   है   बछडा-बछडा खुंटेके बळ नाचता है   पके बडके तले, मरणेवाले है   दिलपर दिल ऐना है   आपनी और निभाय, वांकी वही जाने   नंगेमे खुदाभी डरता है   नानक (कहे) नन्हे होईजे जैसी दूब, और घांस जर जात है दूब खूब की खूब   चतुराला चिंता फार, मूर्खा नाहीं लाज, सब घोडे बारा टक्‍के, पोट भरले नाही काज   सब मिलना पण लंगोटीयार नहीं मिलना   सब सारख्या मुखपारख्या   सब सुनारकी, एक लव्हारकी   साप सब जगे तेढा पर आपने बीलमें सीधा   महंत-जांके संग दसवीस है तांको नाम महंतः   करी (करे) चोरी, और शिरजोरी   साहेबका घर दूर है, जैसी लंबी खजूर l चढे तो चाहे प्रेम रस, गिरे तो चकना चूर ll   भडभुंजा-भडभुंजे की लडकी और केसरका टिकला   घोडेकू तंग और अदमीकू वंग   जबान तले जबान है   हरोज-हरोज नया कुवा खोदना, और नया पानी पीना   तेली खसम करना, और रुखा खाना   घीणो पैसो और पैसोनी घी   सो घाट और एक वसरी कांठ   पानी पिना छानके, और गुरुअ करना जानके   दियाही आडे आता है   एक एक मुस्किलके, हजार हजार आसान रखे है   सोनेका निवाला खिलाना, और शेरके नजरोसें देखना   हजार आफत है, एक दिल लगानेसें   श्याम-शामसुंदर बेटी चुला फुंकने बैठी, और नकटा बेटा चावडीवर बैठा   आग पानीको हाडवैर है   खोटा पैसा गांठका और नकटा बेटा पेटका   विद्वानोको शिंग नहीं, और मुर्खको पुच्छ नहीं   मुफलस-मुफलससे सवाल हराम है   मारमारके जाय, फताहदाद इलाही है   जहांके मुरदे वहांही गाडते है   उंट बडबडातेही लादते है   दोन तोबे खाऊंगा और एक मेंढी लेउंगा   उपरका घडभाई, और निचेको अल खुदाई   घरमें नही बास, और नाम दुर्गादास   हलवाई-हलवाईंकी दुकान, और दादाजीक फाते   आज है सो कल नही   आग पानीको वैर है   गद्धेभी जवानीमें, भले मालूम देते है   जबान तले जबान है   दोनो हातो पगडी संभालाने पडी है   बियाह-बीयाह न कीया, बराततो देखी है   मारमारके जाय, फताहदाद इलाही है   सोनेकी चेडी (चिडिया), हात लगी है   सोना-सोतेको सोता, कब जागता है   
: Folder : Page : Word/Phrase : Person

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.
TOP